Indian Air Force को मिले Heron mark-2 dron सीमा निगरानी होगी मजबूत: चीन और पाकिस्तान सीमाओं पर तैनात

Indian Air Force (IAF) ने पाकिस्तान और चीन के साथ देश की सीमाओं पर चार Heron mark-2 dron शामिल किए हैं। ये यूएवी वर्तमान में उत्तरी क्षेत्र में स्थित एक अग्रिम हवाई अड्डे पर तैनात हैं।

भारतीय सेना के पास अब ‘हेरोन ड्रोन मार्क-2’ के रूप में एक नया और शक्तिशाली हथियार है, जिसे आने वाले दिनों में कश्मीर के आतंकी ठिकानों के खिलाफ उपयोग किया जा सकता है। इस ड्रोन का उपयोग अल कायदा के चीफ अल जवाहिरी जैसे आतंकवादियों की ढेरी करने के लिए अमेरिका ने भी किया था। यह विशेष तरीके से डिज़ाइन किया गया हेरोन ड्रोन भारत की वायुसेना के लिए एक गेम-चेंजर साबित हो सकता है।

इस ड्रोन की खूबियाँ उसके उपयोगकर्ताओं द्वारा प्रशंसा की जा रही हैं, और खासकर इजरायल से इसकी खरीदारी करने से यह भारत की सुरक्षा क्षमता को बढ़ावा देने में मददगार साबित हो सकता है। इस ड्रोन की तकनीकी खूबियाँ उसकी सामर्थ्य को दर्शाती हैं और यह सेना के लिए एक नया उपाय हो सकता है कश्मीर में आतंकवाद को खत्म करने के लिए।

इस ड्रोन के उपयोग से भारतीय सेना को आतंकी ठिकानों का निष्क्रिय करने का एक नया तरीका मिलेगा, जिससे वे सीमावर्ती कश्मीर में आतंकवाद के खिलाफ सफल ऑपरेशन्स का आयोजन कर सकते हैं। इससे न केवल सुरक्षा में सुधार होगा, बल्कि यह भारत की प्रतिष्ठा को भी बढ़ावा देगा, जब वे अपने सुरक्षा के लिए इस नए तकनीकी हथियार का उपयोग करेंगे।”

Indian Air Force (IAF) ने सीमा निगरानी के लिए हेरॉन मार्क 2 ड्रोन शामिल किए:-

एएनआई की रिपोर्ट के अनुसार, इन ड्रोन में एक ही समय पर एक ही बार में चीन और पाकिस्तान के साथ सीमाओं पर निगरानी करने की क्षमता है। उनके पास लंबी दूरी की मिसाइलों और विभिन्न अन्य हथियार प्रणालियों से लैस होने की क्षमता भी है।

उपग्रह संचार क्षमता (satellite communication capability) रखने के अलावा, इजरायल में निर्मित हेरॉन ड्रोन, लगभग 36 घंटे तक लगातार लंबी दूरी तक उड़ान भरने में सक्षम हैं। उनके पास व्यापक दूरी से दुश्मन के लक्ष्यों को चिह्नित करने के लिए लेजर रोशनी का उपयोग करने की अतिरिक्त क्षमता है, जिससे लड़ाकू विमानों को उन्हें खत्म करने में सहायता मिलती है। ड्रोन स्क्वाड्रन के कमांडिंग ऑफिसर विंग कमांडर पंकज राणा ने जोर देकर कहा कि हेरॉन मार्क 2 विस्तारित धीरज और एक ही स्थान से पूरे देश की निगरानी करने की क्षमता के साथ एक अत्यधिक सक्षम ड्रोन है।

इजरायली सूत्रों से मिली जानकारी के आधार पर, यूएवी एक रोटेक्स 916 आईएस इंजन द्वारा संचालित हैं और इसमें 35,000 फीट की ऊंचाई तक पहुंचने की क्षमता है। ये ड्रोन 150 समुद्री मील की अधिकतम गति से उड़ान भरने में सक्षम हैं और एक विस्तारित उड़ान अवधि है, जिससे उन्हें विस्तारित अवधि के लिए हवा में रहने की अनुमति मिलती है। यह बढ़ा हुआ धीरज एक ही मिशन के भीतर कई क्षेत्रों को कवर करने की क्षमता का अनुवाद करता है। विंग कमांडर पंकज राणा ने इस बात पर प्रकाश डाला कि ड्रोन भारतीय वायु सेना के खुफिया, निगरानी और टोही ढांचे में सहज रूप से एकीकृत है।

Indian Air force Heron mark-2 का विभिन्न मौसम स्थिति में कर सकेगी संचालन

हेरॉन मार्क 2 यूएवी को विभिन्न मौसम की स्थिति और विभिन्न इलाकों में संचालन के लिए डिज़ाइन किया गया है, जो उन्हें चीन और पाकिस्तान दोनों सीमाओं पर कवरेज के लिए उपयुक्त बनाता है। हेरॉन मार्क 2 के पेलोड और ऑनबोर्ड एवियोनिक्स शून्य से नीचे के तापमान और विभिन्न मौसम स्थितियों में काम करने में सक्षम हैं। यह क्षमता भारतीय वायु सेना को किसी भी प्रकार के इलाके में उपस्थिति स्थापित करने की अनुमति देती है, “स्क्वाड्रन लीडर अर्पित टंडन ने एएनआई को एक बयान में समझाया।

टंडन, जो एक ड्रोन पायलट के रूप में कार्य करते हैं, ने आगे बताया कि हेरॉन ड्रोन का नया पुनरावृत्ति पुराने मॉडल की तुलना में कई फायदे प्रदान करता है जिन्हें 2000 के दशक की शुरुआत में भारतीय वायुसेना के बेड़े में पेश किया गया था।

Indian Air Force को मिलेगी make in india से ताकत :

‘मेक इन इंडिया’ पहल को बढ़ावा देने के लिए, सरकार एक सहयोगी अधिग्रहण रणनीति के माध्यम से 97 उन्नत ड्रोन खरीदने पर ध्यान केंद्रित कर रही है। यह निर्णय रक्षा बलों द्वारा किए गए एक व्यापक वैज्ञानिक मूल्यांकन का पालन करता है, जिसने निर्धारित किया कि मध्यम ऊंचाई लंबी धीरज क्षमताओं के लिए आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए 97 ड्रोन आवश्यक थे।

Indian Air Force की ड्रोन के लिए भविष्य की रणनीति

इसके अतिरिक्त, भारत का अमेरिकी रक्षा कंपनी जनरल एटॉमिक्स से 31 प्रीडेटर ड्रोन खरीदने का इरादा है। फर्म ने कथित तौर पर 3.072 बिलियन डॉलर की राशि के लिए भारत को 31 एमक्यू 9 बी ड्रोन की आपूर्ति करने का सौदा प्रस्तावित किया है, हालांकि इस राशि पर वर्तमान में बातचीत चल रही है।

also read : mob lynching और नाबालिग से रेप के लिए मृत्युदंड : अमित शाह ने लोकसभा में बिल पेश किया

Leave a Reply