PM Vishwakarma Yojana 2023: पीएम मोदी ने लॉन्च की प्रधानमंत्री विश्वकर्मा योजना

PM Vishwakarma Yojana 2023: भारत सरकार ने PM Vishwakarma Yojana की शुरुआत की है, जिसका मुख्य उद्देश्य कारीगरों को आर्थिक सशक्तिकरण करना है। इस लेख में, हम इस योजना के महत्व, लाभ, और योजना के तहत उपलब्ध सुविधाओं के बारे में चर्चा करेंगे।

Also Read | Top 10 Adventure activities in India: भारत के 10 बेहतरीन एडवेंचरस डेस्टिनेशन | 

योजना का परिचय

PM Vishwakarma Yojana एक सरकारी योजना है जिसका उद्देश्य कारीगरों को आर्थिक सशक्तिकरण करना है। इस योजना के तहत सरकार लोन लेने वाले कारीगरों को ब्याज पर 8 प्रतिशत तक की सब्सिडी प्रदान करेगी।

PM Vishwakarma Yojana 2023 योजना के लक्ष्य

  1. लोन सुविधा: योजना के अंतर्गत एक लाख रुपया का कर्ज दिया जाएगा। लाभार्थी द्वारा इस लोन का पुनर्भुगतान करने पर उन्हें अतिरिक्त दो लाख रुपये का भुगतान किया जाएगा।

ब्याज सब्सिडी

  1. ब्याज पर सब्सिडी: सरकार बिना कुछ गिरवी रखे 5 प्रतिशत की रियायती ब्याज दर पर 3 लाख रुपये तक का लोन देगी।

उपयोजन कारीगरों के लिए

PM Vishwakarma Yojana का लाभ उन कारीगरों को मिलेगा जो बढ़ई, सुनार, लोहार, राजमिस्त्री, पत्थर की मूर्ति बनाने वाले, नाई और नाव बनाने वाले सहित 18 गतिविधियां शामिल करते हैं।

Also Read | Top 10 Best Honeymoon Destinations in India , जहां आप अपने जीवन के कुछ हसीन लम्हे बीता सकते है अपने जीवनसाथी के साथ।

वित्तीय सहायता और ट्रेनिंग

पीएम विश्वकर्मा योजना में वित्तीय सहायता के साथ एडवांस स्किल ट्रेनिंग, आधुनिक डिजिटल टेक्नोलॉजी का ज्ञान, डिजिटल पेमेंट, वैश्विक एवं घरेलू मार्केट से लिंक और ब्रांड प्रमोशन आदि के बारे में भी बताया जाएगा।

स्किल ट्रेनिंग

PM Vishwakarma Yojana के तहत 5 दिनों की ट्रेनिंग दी जाएगी साथ ही 500 रुपये प्रति दिन का भुगतान भी इस ट्रेनिंग के दौरान किया जाएगा।

इंसेंटिव्स

इसके अलावा, टूलकिट इंसेंटिव के रूप में 15,000 रुपये की ग्रांट दी जाएगी। वहीं, डिजिटल लेनदेन को प्रमोट करने के लिए एक रुपये प्रति लेनदेन तक का इंसेंटिव 100 लेनदेन तक दिया जाएगा।

PM Vishwakarma Yojana 2023

निष्कर्षीकरण

PM Vishwakarma Yojana एक महत्वपूर्ण कदम है जो कारीगरों को आर्थिक सशक्तिकरण की दिशा में अग्रसर करेगा। इसके तहत कारीगरों को विभिन्न सुविधाएं मिलेंगी, जिससे उनके उत्पादकता और आय में वृद्धि होगी।

सामान्य प्रश्न

1. कौन कौन से कारीगर इस योजना का लाभ उठा सकते हैं?

योजना में बढ़ई, सुनार, लोहार, राजमिस्त्री, पत्थर की मूर्ति बनाने वाले, नाई और नाव बनाने वाले सहित 18 गतिविधियों के कारीगर शामिल हो सकते हैं।

2. क्या इस योजना के तहत उपलब्ध सुविधाएं सिर्फ आर्थिक हैं, या उसमें ट्रेनिंग भी शामिल है?

हां, इस योजना में वित्तीय सहायता के साथ ट्रेनिंग भी शामिल है, जिसमें एडवांस स्किल ट्रेनिंग, डिजिटल पेमेंट, और विपणन के बारे में शिक्षा दी जाएगी।

3. कितने दिनों की ट्रेनिंग इस योजना के अंतर्गत प्रदान की जाएगी?

PM Vishwakarma Yojana के तहत 5 दिनों की ट्रेनिंग दी जाएगी, जिसके दौरान प्रति दिन 500 रुपये का भुगतान भी किया जाएगा।

4. कैसे मिलेगा डिजिटल लेनदेन को प्रमोट करने का इंसेंटिव?

डिजिटल लेनदेन को प्रमोट करने के लिए एक रुपये प्रति लेनदेन तक का इंसेंटिव 100 लेनदेन तक दिया जाएगा।

5. कैसे आवेदन करें और और जानकारी प्राप्त करें?

आवेदन और और जानकारी प्राप्त करने के लिए “PM Vishwakarma Yojana” पर जाएं।

निष्कर्षण

PM Vishwakarma Yojana का उद्घाटन भारतीय कारीगरों के लिए एक महत्वपूर्ण कदम है, जिससे उन्हें आर्थिक सशक्तिकरण का सबसे अच्छा तरीका प्राप्त होगा। यह योजना कारीगरों को न केवल वित्तीय सहायता प्रदान करेगी, बल्कि उन्हें विशेषज्ञता और नौकरी के अवसरों की दिशा में भी बढ़ावा देगी। इससे वे अपने व्यवसायों को मजबूत करेंगे और देश की आर्थिक वृद्धि में योगदान करेंगे।

Also Read | Top 10 Adventure activities in India: भारत के 10 बेहतरीन एडवेंचरस डेस्टिनेशन |