Nag panchmi :- क्यों की जाती है नागो की पूजा , जानिए क्या है शुभ मुहूर्त और क्या करे क्या ना करे

Nag panchmi का त्योहार 21 अगस्त 2023 को मनाया जाएगा. इस दिन कुछ ऐसे काम है जो गलती से भी नहीं करना चाहिए, नहीं तो आने वाली 7 पीढ़ियों तक माफी नहीं मिलती, वंश वृद्धि रुक जाती है.

Nag Panchami 2023: 

नाग पंचमी का त्योहार 21 अगस्त 2023 को मनाया जाएगा. इस दिन सावन सोमवार भी है. सावन माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी तिथि पर नाग पंचमी मनाई जाती है. ये दिन नाग देवता को समर्पित है. नाग पूजा हमारी संस्कृति और परंपरा का भाग है.
कालसर्प दोष से मुक्ति पाने के लिए ये दिन सर्वश्रेष्ठ माना जाता है. शास्त्रों के अनुसार कुछ ऐसे काम है जो नाग पंचमी पर नहीं करना चाहिए, वरना आने वाली 7 पीढ़ियों तक इसका दोष लगता है. आइए जानते हैं Nag panchmi का मुहूर्त, सर्पों की पूजा का महत्व और नियम.

Nag panchmi

नाग पंचमी 2023 पूजा मुहूर्त


सावन शुक्ल पंचमी तिथि शुरू – 21 अगस्त 2023, प्रात: 12.21


सावन शुक्ल पंचमी तिथि समाप्त – 22 अगस्त 2023, प्रात: 02 बजे तक रहेगी.



पूजा मुहूर्त – सुबह 05.33 – सुबह 08.30 (21 अगस्त 2023)

नाग पंचमी पर सर्पों की पूजा का लाभ :-


भविष्य पुराण के अनुसार सर्प काटने से किसी की मौत हुई हो तो उनकी सद्गति नहीं होती. ऐसी आत्माओं को मोक्ष नहीं मिलता. ऐसे में Nag panchmi पर  नाग देवता की पूजा करने से सांप के डसने का भय नहीं रहता, साथ ही जिन लोगों की अकाल मृत्यु हुई है उन्हें मुक्ति मिलती है.


ब्रह्मपुराण के अनुसार ब्रह्मा जी ने सर्पों को नाग पंचमी के दिन पूजे जाने का वरदान दिया है. इस दिन अनंत, वासुकी, तक्षक, कारकोटक और पिंगल नाग की पूजा का विधान है. इनकी पूजा से राहु-केतु जनित दोष और कालसर्प दोष से मुक्ति मिलती है.

Nag panchmi

पूजा विधि :-

इस दिन पंचामृत से शिवलिंग का अभिषेक करें। इसके साथ ही घर के मुख्य द्वार पर सर्पाकार बनाकर जलाभिषेक करें और घी और गुड चढ़ाएं। इस दिन कुंडली के दोषों को दूर करने के लिए बहते हुए जल में चांदी के नाग-नागिन के जोड़ों को प्रवाहित करना चाहिए। वहीं, महामृत्युंजय मन्त्र और नागों के 12 नामों का जाप करना बेहद ही शुभ माना जाता है।

नाग पंचमी पर न करें ये काम:-

हिंदू धर्म में सर्पों को देवता माना जाता है. वैसे तो सर्प को कभी नुकसान नहीं पहुंचाना चाहिए लेकिन खासकर नाग पंचमी के दिन सांपों को कष्ट न पहुंचाएं. ऐसा करने पर आने वाली सात जन्मों तक पीढ़ियों को दोष लगता है.


वंशज को होता है नुकसान – इस दिन किसी भी कार्य के लिए जमीन की खुदाई न करें. ऐसा करने सें मिट्टी या जमीन में सांपों के बिल या बांबी के टूटने का डर रहता है. कहते हैं सांपों को नुकसान पहुंचने पर वंश का नाश हो जाता है. संतान सुख नहीं मिलता.


पूजा में न करें ये गलती – इस दिन जीवित सांप को दूध न पिलाएं. सांप के लिए दूध जहर के समान हो सकता है, इसलिए सिर्फ उनकी प्रतिमा पर ही दूध अर्पित करें.


नुकीली वस्तु से न करें काम – नाग पंचमी पर नुकीली और धारदार वस्तुओं जैसे चाकू, सूई का इस्तेमाल करना अशुभ माना जाता है. इस दिन सिलाई, कढ़ाई नहीं की जाती.


क्यों नहीं होता तवा का उपयोग – Nag panchmi पर लोहे की कड़ाही और तवे में खाना न पकाएं. मान्यता के अनुसार रोटी बनाने के लिए जिस लोहे के तवे का इस्तेमाल किया जाता है उसे नाग का फन माना जाता है.

Nag panchmi

Disclaimer यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि vaarta Bharat  किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

also read :-Hindu temple :- एक ऐसा मंदिर जो मंदिर होकर भी जहां आजतक कभी नहीं हुई पूजा, जहां धार्मिक अनुष्ठान पर है पूर्णतः प्रतिबन्ध ।

Leave a Reply