Teachers day : शिक्षकों का हुआ राष्ट्रपति द्वारा सम्मान, 75 शिक्षकों का हुआ सम्मान |

“शिक्षा मंत्रालय के अधिकारियों के बयान के अनुसार, देश भर से कुल 75 शिक्षकों को Teachers day के अवसर पर एक महत्वपूर्ण पुरस्कार के लिए चुना गया है, जिसे राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू ने 5 सितंबर को सम्मानित किया। इस पुरस्कार के विजेताओं में 50 स्कूल शिक्षक, 13 उच्च शिक्षा संस्थानों के शिक्षक, और 12 कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय के शिक्षक शामिल हैं।”

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को Teachers day पर राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार के विजेताओं से बातचीत की और यूथ ब्रेन को आकार देने में उनके योगदान की सराहना की. उन्होंने अपने आवास पर पुरस्कार विजेताओं से बातचीत की और उनके साथ शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान सहित अन्य लोग भी शामिल हुए.

शिक्षा मंत्रालय के अधिकारियों के अनुसार, देश भर से कुल 75 शिक्षकों को इस पुरस्कार के लिए चुना गया है, जो उन्हें 5 सितंबर को राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू द्वारा प्रदान किया जाएगा. चयनित पुरस्कार विजेताओं में 50 स्कूल शिक्षक, उच्च शिक्षा संस्थानों के 13 शिक्षक और कौशल विकास और उद्यमिता मंत्रालय के 12 शिक्षक शामिल हैं.

शिक्षा मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने PTI से कहा कि राष्ट्रीय शिक्षक पुरस्कार का उद्देश्य देश में शिक्षकों के अद्वितीय योगदान का जश्न मनाना और उन शिक्षकों को सम्मानित करना है, जिन्होंने अपनी प्रतिबद्धता और समर्पण के माध्यम से न केवल शिक्षा की गुणवत्ता में सुधार किया है बल्कि अपने छात्रों के जीवन को भी समृद्ध बनाया है.

Teachers day पर PM की सराहना

Teachers day

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने Teachers day पर शिक्षकों के महत्व की गरिमा को महसूस किया और उनके समर्पण को सराहा। उन्होंने शिक्षकों को देश के भविष्य के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका देने का संकेत दिया। Teachers day के अवसर पर, पूर्व राष्ट्रपति डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन को भी याद किया गया, जिन्होंने शिक्षा के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान किया था।

Teachers day पर शिक्षकों को मिले ये पुरस्कार

“शिक्षकों को प्रत्येक पुरस्कार में योग्यता प्रमाण पत्र, नकद पुरस्कार, और रजत पदक प्रशस्ति पत्र, शॉल, श्रीफल दिया गया।

Teachers day पर शिक्षा मंत्रायल द्वारा घोषित किए गए नए पुरस्कार योजना के तहत, शिक्षकों को प्रत्येक पुरस्कार में योग्यता प्रमाण पत्र, 50,000 रुपये का नकद पुरस्कार, और एक रजत पदक प्रशस्ति पत्र, शॉल, श्रीफल दिया गया। । इसके अलावा, पुरस्कार विजेताओं को प्रधानमंत्री के साथ बातचीत करने का भी मौका मिला।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री द्वारा योजनित किये गए चयन में, विभिन्न प्रतिष्ठित व्यक्तियों से तीन अलग-अलग स्वतंत्र राष्ट्रीय जूरी का गठन किया गया था। Teachers day पर इसमें शिक्षण, अनुसंधान, सामुदायिक आउटरीच, और नवाचार को मान्यता देने के लिए नवाचार को बढ़ावा देने के लिए जनभागीदारी को अधिकतम करने का आदर्श स्थापित किया गया था।

इसके साथ ही, नामांकन की प्रक्रिया ऑनलाइन की गई थी ताकि अधिक शिक्षक इस उपलब्धि के लिए मांग सकें। इस सरकारी पहल का उद्घाटन शिक्षा क्षेत्र में गुणवत्ता को प्रोत्साहित करने के लिए महत्वपूर्ण कदम के रूप में माना जा रहा है।

यह भी पढ़े: CM Shivraj singh ने अतिथि शिक्षकों को दी बड़ी सौगात वेतन किया Double और भर्ती में 50% आरक्षण

Leave a Reply