Mission XPoSat : अब नए मिशन की ओर ISRO के बढ़ते कदम

ISRO XPoSat mission : इसरो ने चंद्रयान-3 के माध्यम से इतिहास रचा है, लेकिन इसका सम्बंध सूर्य मिशन आदित्य एल1 के साथ नहीं है। आदित्य एल1 एक अलग मिशन है जिसका उद्घाटन आज हुआ है। यह मिशन सूर्य के रहस्यों को खोलने का प्रयास करेगा।

इसके अलावा, इसरो अब एक नया मिशन, ISRO XPoSat mission, को लॉन्च करने की योजना बना रहा है, जिसका उद्घाटन भी जल्द हो सकता है। इस मिशन का उद्देश्य खगोल विज्ञान को बढ़ावा देना है और लोगों की ज्ञान को विस्तारित करना है।

XPoSat

आदित्य एल1 (Aditya L1) मिशन भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) का सोलर मिशन है जिसका उद्देश्य है सूरज के धूप की अध्ययन करना और सूर्य के अनुकूलन के बारे में विस्तार से जानकारी जुटाना। इस मिशन का मुख्य उद्देश्य सूर्य के अध्ययन के माध्यम से विज्ञानिकों को सूर्यमंडल की बुनाई, तापमान, और वायुमंडल के प्रक्रियाओं के बारे में नई जानकारी प्राप्त करना है।

इस मिशन के मुख्य उद्देश्यों में से कुछ निम्नलिखित हैं:

  1. सूर्य के धूप का अध्ययन: आदित्य एल1 मिशन के माध्यम से सूरज के धूप की अध्ययन की जाएगी ताकि वैज्ञानिकों को सूर्यमंडल की विभिन्न प्रक्रियाओं का समझने में मदद मिल सके।
  2. सूरज की तापमान की अध्ययन: मिशन के तहत सूरज की तापमान की मॉनिटरिंग की जाएगी और उसके तापमान के विभिन्न विशेषताओं का अध्ययन किया जाएगा।
  3. सूर्यमंडल के वायुमंडल का अध्ययन: मिशन के तहत सूर्यमंडल के वायुमंडल की अध्ययन की जाएगी ताकि वैज्ञानिकों को यह समझने में मदद मिल सके कि यह कैसे काम करता है और किस प्रकार सूर्य की अध्ययन में महत्वपूर्ण हो सकता है।

इसरो का आदित्य एल1 मिशन यह सुनिश्चित करने का प्रयास है कि हम सूर्य के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त कर सकें और इसे सूर्यमंडल के विभिन्न पहलुओं के साथ जोड़कर समझ सकें। इससे हमारी विज्ञानिक ज्ञान को बढ़ावा मिलेगा और अंतरिक्ष में अधिक अनुसंधान की ओर कदम बढ़ाया जा सकेगा।

चंद्रयान-3 का उल्लेख आपने किया है, जो दक्षिणी ध्रुव पर सॉफ्ट लैंडिंग करने की कोशिश की गई थी। इससे भारत अंतरिक्ष मिशनों के क्षेत्र में और भी महत्वपूर्ण यात्रा पर बढ़ गया है।

XPoSat

XPoSat है इसरो के नए मिशन का नाम

इसरो ने वास्तव में खगोल विज्ञान में वैज्ञानिक ज्ञान को आगे बढ़ाने के लिए एक मिशन तैयार किया है। इस मिशन का नाम एक्स-रे पोलारिमीटर उपग्रह XPoSat है, और यह भारत का पहला पोलारिमेट्री मिशन है।

मिशन XPoSat होगा पांच साल का

XPoSat

इसरो के मुताबिक, POLIX 8-30 Kev के ऊर्जा बैंड में खगोलीय अवलोकन के लिए एक एक्स-रे पोलारिमीटर है। उपकरण एक कोलाइमर, एक स्कैटरर और चार एक्सर-रे आनुपातिक काउंटर डिटेक्टरों से बना हुआ है, जो स्कैटरर को घेरे हुए हैं। एक्सपोसैट मिशन पांच साल का होगा।

और खबरें पढ़ें –

Aditya L1 Mission: इसरो ने भारत की पहली सौर मिशन को सफलतापूर्वक Launch किया

Leave a Reply