Chandrayaan-3 : सफल रहा Chandrayaan का सफर देश मे जश्न का माहौल भारत ने रचा इतिहास |

भारत ने Chandrayaan-3 मिशन के माध्यम से ऐतिहासिक कदम उठाया है, जब उसका लैंडर मॉड्यूल (एलएम) बुधवार को चंद्रमा की सतह पर सफलतापूर्वक उतरा। इस सफलता के साथ, भारत दुनिया का पहला देश बन गया है जो चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर एक लैंडर को पहुंचाने में सफल हुआ है। लैंडर (विक्रम) और रोवर (प्रज्ञान) से युक्त लैंडर मॉड्यूल ने शाम के छह बजकर चार मिनट में चंद्रमा के दक्षिणी ध्रुव पर सॉफ्ट लैंडिंग करने में कामयाबी प्राप्त की।

इस महत्वपूर्ण मिशन के सफलता के लिए पूरे देश में उत्साहपूर्ण प्रार्थनाएं की गईं, और लैंडिंग के बाद लोगों में अत्यधिक उत्साह दिखा। इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गेनाइजेशन (ISRO) ने इस महत्वपूर्ण मिशन के जरिए अपने कदमों को और भी ऊँचाईयों तक बढ़ाया है, जिसका परिणामस्वरूप चांद पर सफल लैंडिंग का पहला दृश्यिकरण सामने आया है।

pm मोदी ने दी बधाई कहा चंदा मामा अब दूर नही

इसरो के तीसरे चंद्र मिशन CHANDRYAAN 3 की चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग पर पीएम मोदी ने कहा कि कभी कहा जाता था चंदा मामा बहुत दूर के हैं, अब एक दिन वो भी आएगा जब बच्चे कहा करेंगे चंदा मामा बस एक टूर के हैं.

Chandrayaan-3

चांद तक इस तरह पहुंचा Chandrayaan-3

इस साल 14 जुलाई को आंध्र प्रदेश के श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्पेस रिस्रच सेंटर से लॉन्च हुआ इसरो का तीसरा चांद मिशन Chandrayaan-3 व्हीकल मार्क-3 के जरिए पृथ्वी के ऑर्बिट में पहुंचा. इसके बाद इसरो के वैज्ञानिकों ने बर्न प्रक्रिया के जरिए इसे चांद के ऑर्बिट में शिफ्ट कर दिया.

भारत बना चौथा सफल लैंडर

चांद पर Chandrayaan-3 की लैंडिग के साथ ही भारत चांद पर स्पेसक्राफ्ट पहुंचाने वाला दुनिया का चौथा देश बन गया है. इससे पहले अमेरिका, रूस और चीन यह कारनामा कर चुके हैं. हालांकि, भारत का मिशन बाकी देशों के मिशन से थोड़ा अलग है.

Also Read:Chandrayaan-3: देश रचने जा रहा है इतिहास, देश-विदेश के लोग दे रहे बधाइयाँ ।

Leave a Reply