Supreme Court ने दी Rahul Gandhi को सजा से राहत क्या बहाल होगी सांसदी ?

सुप्रीम कोर्ट ने राहुल गांधी के ‘मोदी सरनेम’ टिप्पणी पर थोड़ी राहत दी है, जिससे वे आपराधिक मानहानि मामले में अभी जेल नहीं जाएंगे। शुक्रवार को आया अंतरिम आदेश, जिससे कांग्रेस नेता की सजा पर रोक लगी है। क्या आप जानते हैं कि इसके बाद राहुल गांधी की संसदी सदस्यता का क्या होगा? क्या उन्हें फिर से संसद में शामिल किया जाएगा? क्या वे लोकसभा चुनाव 2024 में भाग लेंगे? आइए, जानते हैं…

क्या था मामला :

Rahul gandhi ने 2019 लोकसभा चुनाव के दौरान कर्नाटक में एक रैली के दौरान ‘मोदी सरनेम’ को लेकर बयान दिया था. इस बयान को लेकर बीजेपी विधायक पूर्णेश मोदी ने राहुल के खिलाफ मानहानि का मामला दर्ज कराया था. चार साल बाद 23 मार्च को सूरत की निचली अदालत ने राहुल को दोषी करार देते हुए 2 साल की सजा सुनाई थी

सुप्रीम कोर्ट ने कहा :

ट्रायल कोर्ट ने उन्हें अधिकतम सजा क्यों दी? इस सवाल का जवाब देने के लिए जज को अपने फैसले में स्पष्टीकरण करना चाहिए था। यदि सजा 11 महीने की होती, तो राहुल गांधी को डिसक्वालिफाई नहीं किया जा सकता था। इस सजा के कारण एक लोकसभा सीट बिना सांसद के रह जाएगी, जो केवल एक व्यक्ति के अधिकार का मामला नहीं है, बल्कि उस सीट के वोटर्स के अधिकार से जुड़ा महत्वपूर्ण मुद्दा है।

आपको बिल्कुल सही कहा कि भाषण में सावधानी बरतनी चाहिए। नेताओं को जनता के सामने बोलते समय अपने शब्दों का विशेष ध्यान देना चाहिए। यह राहुल गांधी का कर्तव्य है कि वे इस बात का पूरा ख्याल रखें।

जुलाई में सुप्रीम कोर्ट ने हाईकोर्ट और ट्रायल कोर्ट के फैसले के खिलाफ अपील की सुनवाई की थी। 21 जुलाई को पहली सुनवाई हुई, जिसमें कोर्ट ने राहुल और शिकायतकर्ता से जवाब मांगा। उसके बाद 2 अगस्त को फिर बेंच ने दोनों पक्षों की दलीलें सुनी। इसके बाद 4 अगस्त तक फैसला सुरक्षित रख लिया गया।

सुप्रीम कोर्ट के इस फैसले से राहुल के पक्ष में तीन अहम बातें सामने आई हैं…

राहुल गांधी की सांसदी फिर से बहाल हो सकती है, जिससे वे मौजूदा सत्र में शामिल हो सकते हैं।

अगले साल, राहुल के पास विकल्प हो सकते हैं कि वे लोकसभा चुनाव 2024 में भाग लें, परन्तु यह सुप्रीम कोर्ट के आखिरी फैसले पर निर्भर करेगा।

राहुल को सांसद के रूप में सरकारी आवास भी फिर से मिल सकता है।यह सुप्रीम कोर्ट के आदेश ने राहुल गांधी के राजनीतिक भविष्य को एक नई दिशा देने की संभावना को खोल दिया है।

Leave a Reply