Eris Covid variant in UK: ब्रिटेन में फिर नए कोरोना की दस्तक, नए वेरिएंट ,EG.5.1 के संक्रमण ने लोगों को डराया

Eris Covid variant: दुनिया के ऊपर से अभी कोविड का साया खत्म नहीं हुआ है. 2020 में शुरू हुई ये महामारी लगभग तीन साल बाद भी खत्म होने का नाम नहीं ले रही है. कोविड वायरस के अलग-अलग वेरिएंट दुनियाभर में सामने आ रहे हैं. इसी कड़ी में ब्रिटेन में एक नए कोविड वेरिएंट के फैलने की जानकारी सामने आई है.

ब्रिटेन में कोरोना के एक नए वेरिएंट EG.5.1 से लोगो से संक्रमण की दर तेजी से बढती जा रही है जिससे लोगो के बीच डर का माहौल बना हुआ है ।

Eris Covid variant हाइलाइट्स :-

  • ब्रिटेन में कोरोना के नए वेरिएंट से लोगो मे डर का माहौल
  • तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के नए मामले
  • जुलाई के पहले हफ्ते में डिटेक्ट हुआ था वेरिएंट EG.5.1
Eris Covid variant:

लंदन मे EG.5.1 की दस्तक:

ब्रिटेन में कोविड वायरस के नए वेरिएंट EG.5.1 ने लोगो के बीच ङर का माहौल बनाया हुआ है । इस वेरिएंट का संक्रमण काफी तेजी से लोगों के बीच फैल रहा है। इंग्लैंड में स्वास्थ्य अधिकारियों के अनुसार, EG.5.1 वेरिएंट ओमीक्रॉन से पैदा हुआ है। इसे पिछले महीने UK में पहली बार डिटेक्ट किया गया था। तब से हर दिन बड़ी संख्या में नए मामले सामने आ रहे हैं।

यूके हेल्थ सिक्योरिटी एजेंसी (यूकेएचएसए) ने कहा कि EG.5.1 जिसे एरिस का उपनाम दिया गया है, यह सात नए कोविड केस में एक का कारण बन रहा है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर, विशेषकर एशिया में बढ़ते मामलों के कारण ब्रिटेन में इसके मामले बढ़ने के बाद 31 जुलाई को इसे एक नए वेरिएंट के रूप में क्लासिफाई किया गया था।

जुन के शुरुआत में हो गया था अंदेशा: इंग्लैंड के स्वास्थ्य अधिकारियों के हवाले से बताया कि यह नया वैरिएंट ईजी.5.1 को पहली बार जून में डिटेक्ट किया गया था और अब यह देश में तेजी से फैल रहा है. रिपोर्ट के अनुसार, यूके हेल्थ सिक्योरिटी एजेंसी (यूकेएचएसए) ने बताया है कि ईजी.5.1 सात नए कोविड केस में एक का कारण बन रहा है.

इस Eris Covid variant के कारण एशिया में भी संक्रमण की रफ्तार काफी तेज हुई है। इससे यूरोपीय देशों के लिए खतरा काफी ज्यादा बढ़ गया है। यूके डेटा में जीनोम की बढ़ती संख्या और अंतरराष्ट्रीय स्तर पर निरंतर वृद्धि के कारण इसे बाद में 31 जुलाई, 2023 को मॉनिटरिंग सिग्नल से बढ़ाकर वैरिएंट V-23JUL-01 कर दिया गया। बताया कि इस वेरिएंट का नामांकरण करने से इसके लक्षण और प्रभावों के विस्तृत अध्ययन में काफी सहायता मिली।

Eris Covid variant:

एक्शन में आया WHO:

ब्रिटेन में कोरोना के एक नए वैरिएंट से दहशत फैल गई है. नया वैरिएंट EG.5.1 ओमिक्रॉन से पैदा हुआ है जिसकी वजह से ब्रिटेन में संक्रमण की दर में तेज उछाल देखा गया है.

world health organizations (WHO) ने दो हफ्ते पहले ही EG.5.1 वेरिएंट पर नज़र रखना शुरू कर दिया था। तब डब्ल्यूएचओ के महानिदेशक टेड्रोस एडनोम घेबियस ने कहा था कि हालांकि लोग टीकों और पूर्व संक्रमण से बेहतर सुरक्षित हैं, लेकिन देशों को अपनी सतर्कता में कमी नहीं लानी चाहिए। इस बात का कोई संकेत नहीं है कि नया वेरिएंट अधिक गंभीर है क्योंकि नवीनतम यूकेएचएसए डेटा से पता चलता है कि यह अब देश के सभी कोविड-19 मामलों का 14.6 प्रतिशत है, यहां तक कि कोविड-19 मामले की दर में वृद्धि जारी है।

Eris Covid variant:

Eris Covid variant: कोविड वेरिएंट EG.5.1पर ब्रिटेन की रिपोर्ट:

यूकेएचएसए के रेस्पिरेटरी डेटामार्ट सिस्टम के माध्यम से रिपोर्ट किए गए 4,396 सांस के नमूनों में से 5.4 प्रतिशत को कोविड-19 बताया गया, जबकि पिछली रिपोर्ट में यह आंकड़ा 4,403 में से 3.7 प्रतिशत था। यूकेएचएसए के टीकाकरण प्रमुख डॉ. मैरी रामसे ने कहा कि हमें इस सप्ताह की रिपोर्ट में कोविड-19 मामलों में वृद्धि देखने को मिली है। हमने अधिकांश आयु समूहों में, विशेषकर बुजुर्गों में, अस्पताल में प्रवेश दरों में थोड़ी वृद्धि देखी है। हालांकि, इस वेरिएंट से हॉस्पिटलाइजेशन की दर काफी कम है। हम वर्तमान में आईसीयू में मरीजों की भीड़ नहीं देख रहे हैं। लेकिन, हम इस वेरिएंट की बारीकी से निगरानी करना जारी रखेंगे।

Eris Covid variant

भारत मे अभी इस नए वेरिएंट के संक्रमण की खबर सामने नही आई है किन्तु फिर भी सरकार जनता से सावधानी रखने की अपील कर रही है ।

check out White Hair treatment

Leave a Reply