China में Doksuri typhoon ने मचाई तबाही, 11 लोगों की मौत

चीन में डोकसुरी टाइफून के आगमन से बड़ी तबाही हो गई है। इस आपदा के कारण 11 लोगों की मौत हो गई है जबकि 27 लोग अब भी लापता हैं। चीन की राजधानी बीजिंग में 70 सालों के रिकॉर्ड के साथ 257.9 मिलीमीटर बारिश हो गई है, जोने 1951 में देखी गई इतनी अधिकतम बारिश से भी ज्यादा है। इससे बाढ़ प्रभावित क्षेत्र में बड़ी विस्तार से विकराल स्थिति बनी है और रेस्क्यू ऑपरेशन जारी है। रेस्क्यू टीमों ने अब तक लगभग 1 लाख 27 हजार लोगों को सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया है।

राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने बाढ़ से प्रभावित क्षेत्रों में फंसे लोगों के बचाव के लिए त्वरित कदम उठाने के निर्देश दिए हैं। चीन के फ्लड कंट्रोल डिपार्टमेंट के अनुसार, अभी भी 13 जिलों में लगभग 44 हजार लोग बाढ़ की गिरफ्त में हैं।

इस आपदा के मद्देनजर, सेना ने चार हेलिकॉप्टर्स को बाढ़ के बीच फंसे लोगों को खाना, रेनकोट और कंबल जैसी जरूरतमंद वस्तुएं पहुंचाई हैं। बाढ़ के कारण 5 कस्बों में मोबाइल कम्यूनिकेशन का सेवानिर्तरण भी ठप हो गया है। सोशल मीडिया पर वायरल हो रही वीडियोज में तेज बहाव में सड़कों पर बहती गाड़ियों को देखा जा सकता है।

इस भयानक स्थिति के चलते बीजिंग के इंटरनेशनल एयरपोर्ट ने दिन के दौरान उड़ान भरने वाली 70 फ्लाइट्स को रद्द कर दिया है। इससे यात्रियों को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। यहां तक ​​कि 2019 में शुरू हुए डाक्सिंग एयरपोर्ट से उड़ान भरने वाली 300 फ्लाइट्स भी रद्द कर दी गई हैं। सरकार ने लोगों को घरों के अंदर रहने का सुझाव दिया है और 100 से ज्यादा रास्ते बंद कर दिए गए हैं ताकि लोगों को बाढ़ से बचाया जा सके।

इस तबाही से निपटने के लिए चीन सरकार और सेना कड़ी मेहनत कर रही हैं। लेकिन अब तक सितंबर 2023 के शुरूआती दिनों में बाढ़ के कारण हुई नुकसान की भरपाई नहीं हो पा रही है। लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाने के लिए जारी रेस्क्यू ऑपरेशन में लगभग 1 लाख 27 हजार लोगों को शामिल किया गया है और इसमें सेना की भूमिका भी महत्वपूर्ण है।आपदा के इस समय में सरकार के साथ-साथ आम जनता को भी सतर्क रहना जरूरी है। चीन सरकार और जनता में एकता और सामर्थ्य होने से ही इस मुश्किल समय को पार किया जा सकता है। आशा है कि जल्द ही इस आपदा से उबरने के लिए सभी प्रयास कामयाब होंगे और लोग फिर से अपने नॉर्मल जीवन में वापस आ सकेंगे।

Leave a Reply